लाइन में दूसरा W5 questions हैं। उन्हें W5 कहा जाता है क्योंकि वे सब Who, What, Why, When या Where से शुरू होते हैं। W5 प्रश्न आपके विकल्पों को कम कर देंगे और आपको एक या 2 डिज़ाइन विकल्पों पर अधिकतम ध्यान केंद्रित करने में मदद करेंगे। यहां ऐसे W5 प्रश्नों का एक नमूना है और आप उनसे क्यों पूछेंगे इसका एक संक्षिप्त विवरण। स्थिति की आवश्यकता के रूप में आप उन्हें जोड़ या निकाल सकते हैं, लेकिन ध्यान रखें कि उन्हें सभी को W5 शब्दों में से एक के साथ शुरू करना होगा:

एचयूडी होम (टीआरएलए, आरएमएक्स) खरीदने के लिए आवश्यक टिप्स 2006 के आस-पास बढ़ने वाले आवास बूम के दौरान, एचयूडी घरों में शायद ही बातचीत का एक गर्म विषय था। लेकिन चूंकि जल्द ही आवास बस्ट होने के बाद, एचयूडी कार्यक्रम में कुख्याति प्राप्त हुई और एक घर का नाम अधिक हो गया। (घर खरीदने के बारे में अधिक जानकारी के लिए, देखें: अ यू एस में हाउस खरीदने के लिए गाइड) एचयूडी घर क्या है?
नीरो ने बस एक रोम जलाया था. उसने बहुत थोड़ी संख्या में लोगों की हत्या की थी. उसने तो बहुत थोड़ा दुख पैदा किया, अपने पूर्ण मनोरंजन के लिये. और उसका इतिहास में क्या स्थान है? उसे इतिहासकार किस नाम से बुलाते हैं? सभी विषैले विशेषण उस पर बरसाये जाते हैं. पन्ने उसकी निन्दा के वाक्यों से काले पुते हैं, भर्त्सना करते हैं – नीरो एक हृदयहीन, निर्दयी, दुष्ट. एक चंगेज खाँ ने अपने आनन्द के लिये कुछ हजार जानें ले लीं और आज हम उसके नाम से घृणा करते हैं. तब किस प्रकार तुम अपने ईश्वर को न्यायोचित ठहराते हो? उस शाश्वत नीरो को, जो हर दिन, हर घण्टे ओर हर मिनट असंख्य दुख देता रहा, और अभी भी दे रहा है. फिर तुम कैसे उसके दुष्कर्मों का पक्ष लेने की सोचते हो, जो चंगेज खाँ से प्रत्येक क्षण अधिक है? क्या यह सब बाद में इन निर्दोष कष्ट सहने वालों को पुरस्कार और गलती करने वालों को दण्ड देने के लिये हो रहा है? ठीक है, ठीक है. तुम कब तक उस व्यक्ति को उचित ठहराते रहोगे, जो हमारे शरीर पर घाव करने का साहस इसलिये करता है कि बाद में मुलायम और आरामदायक मलहम लगायेगा?
इन दोनों ही अवस्थाओं में वह सच्चा नास्तिक नहीं बन सकता. पहली अवस्था में तो वह अपने प्रतिद्वन्द्वी के अस्तित्व को नकारता ही नहीं है. दूसरी अवस्था में भी वह एक ऐसी चेतना के अस्तित्व को मानता है, जो पर्दे के पीछे से प्रकृति की सभी गतिविधियों का संचालन करती है. मैं तो उस सर्वशक्तिमान परम आत्मा के अस्तित्व से ही इनकार करता हूँ. यह अहंकार नहीं है, जिसने मुझे नास्तिकता के सिद्धान्त को ग्रहण करने के लिये प्रेरित किया. मैं न तो एक प्रतिद्वन्द्वी हूँ, न ही एक अवतार और न ही स्वयं परमात्मा. इस अभियोग को अस्वीकार करने के लिये आइए तथ्यों पर गौर करें. मेरे इन दोस्तों के अनुसार, दिल्ली बम केस और लाहौर षड़यंत्र केस के दौरान मुझे जो अनावश्यक यश मिला, शायद उस कारण मैं वृथाभिमानी हो गया हूँ.
11. बजट का निर्माण करना- कोई भी योजना वित्त व्यवस्था के बिना अधूरी रहती है। योजना में निर्धारित कार्यों को दिल प्रबन्ध द्वारा ही पूरा किया जा सकता है, अत: योजना को अन्तिम रूप दे ने के साथ ही उसका बजट भी बना लिया जाता है। इसमें योजना की विभिन्न क्रियाओं पर खर्च की जाने वाली वित्तीय राशि का प्रावधान किया जाता है। बजट योजनाओं को नियंत्रित करने तथा योजनाओं की प्रगति का मूल्यांकन करने का एक महत्वपूर्ण उपकरण भी होता है। /injects>
×