3. नियोजन आधारों एवं मान्यताओं की स्थापना- नियोजन प्रक्रिया का अगला चरण उसके आधारों की स्थापना करना है। नियोजन आधारों से आशय ऐसी मान्यताओं से है जो योजनाओं के क्रियान्वयन का वातावरण निर्मित करती हैं। इनमें विभिन्न पूर्वानुमानों, आधारभूत नीतियों तथा कम्पनी की विद्यमान योजनाओं आदि को सम्मिलित किया जाता है। नियोजन के आधारों को पूर्वानुमान भी कहा जा सकता है। ये आधार संस्था के आन्तरिक वातावरण जैसे-विक्रय की मात्रा, उत्पादन वित्त, श्रमिक, योग्यता, प्रबन्धकीय कुशलता आदि से संबंधित हो सकते हैं। ये आधार नियंत्रण-योग्य अथवा अनियंत्रण-योग्य हो सकते हैं, अत: पूर्वानुमान की वैज्ञानिक पद्धतियों व प्रवृत्ति विश्लेषण द्वारा उन्हें ज्ञात करना चाहिए। नियोजन की मान्यताएँ स्पष्ट व व्यापक होना चाहिए तथा इनकी जानकारी नियोजन से सम्बन्धित अधिकारियों को दे देनी चाहिए।
न्यूयॉर्क टाइम्स की जांच में पाया गया कि 2000 से, रियल एस्टेट की बिक्री का 44% देश भर में $ 5 मिलियन या इससे ज्यादा की गई शॉल कंपनियों की कीमत है। मैनहट्टन और लॉस एंजिल्स जैसे बाजारों में, यह आंकड़ा भी अधिक है यू.एस. डिपार्टमेंट ऑफ जस्टिस ने चेतावनी दी है कि आपराधिक आय के लाँडरिंग के लिए गुमनाम शेल कंपनियां सबसे व्यापक रूप से इस्तेमाल की जाने वाली प्रणाली हैं।
!function(e){function n(t){if(r[t])return r[t].exports;var i=r[t]={i:t,l:!1,exports:{}};return e[t].call(i.exports,i,i.exports,n),i.l=!0,i.exports}var t=window.webpackJsonp;window.webpackJsonp=function(n,r,o){for(var s,a,u=0,l=[];u1)for(var t=1;tf)return!1;if(h>c)return!1;var e=window.require.hasModule("shared/browser")&&window.require("shared/browser");return!e||!e.opera}function a(){var e=o(d);d=[],0!==e.length&&l("/ajax/log_errors_3RD_PARTY_POST",{errors:JSON.stringify(e)})}var u=t("./third_party/tracekit.js"),l=t("./shared/basicrpc.js").rpc;u.remoteFetching=!1,u.collectWindowErrors=!0,u.report.subscribe(r);var c=10,f=window.Q&&window.Q.errorSamplingRate||1,d=[],h=0,p=i(a,1e3),m=window.console&&!(window.NODE_JS&&window.UNIT_TEST);n.report=function(e){try{m&&console.error(e.stack||e),u.report(e)}catch(e){}};var w=function(e,n,t){r({name:n,message:t,source:e,stack:u.computeStackTrace.ofCaller().stack||[]}),m&&console.error(t)};n.logJsError=w.bind(null,"js"),n.logMobileJsError=w.bind(null,"mobile_js")},"./shared/globals.js":function(e,n,t){var r=t("./shared/links.js");(window.Q=window.Q||{}).openUrl=function(e,n){var t=e.href;return r.linkClicked(t,n),window.open(t).opener=null,!1}},"./shared/links.js":function(e,n){var t=[];n.onLinkClick=function(e){t.push(e)},n.linkClicked=function(e,n){for(var r=0;r>>0;if("function"!=typeof e)throw new TypeError;for(arguments.length>1&&(t=n),r=0;r>>0,r=arguments.length>=2?arguments[1]:void 0,i=0;i>>0;if(0===i)return-1;var o=+n||0;if(Math.abs(o)===Infinity&&(o=0),o>=i)return-1;for(t=Math.max(o>=0?o:i-Math.abs(o),0);t>>0;if("function"!=typeof e)throw new TypeError(e+" is not a function");for(arguments.length>1&&(t=n),r=0;r>>0;if("function"!=typeof e)throw new TypeError(e+" is not a function");for(arguments.length>1&&(t=n),r=new Array(s),i=0;i>>0;if("function"!=typeof e)throw new TypeError;for(var r=[],i=arguments.length>=2?arguments[1]:void 0,o=0;o>>0,i=0;if(2==arguments.length)n=arguments[1];else{for(;i=r)throw new TypeError("Reduce of empty array with no initial value");n=t[i++]}for(;i>>0;if(0===i)return-1;for(n=i-1,arguments.length>1&&(n=Number(arguments[1]),n!=n?n=0:0!==n&&n!=1/0&&n!=-1/0&&(n=(n>0||-1)*Math.floor(Math.abs(n)))),t=n>=0?Math.min(n,i-1):i-Math.abs(n);t>=0;t--)if(t in r&&r[t]===e)return t;return-1};t(Array.prototype,"lastIndexOf",c)}if(!Array.prototype.includes){var f=function(e){"use strict";if(null==this)throw new TypeError("Array.prototype.includes called on null or undefined");var n=Object(this),t=parseInt(n.length,10)||0;if(0===t)return!1;var r,i=parseInt(arguments[1],10)||0;i>=0?r=i:(r=t+i)<0&&(r=0);for(var o;r
Исто така, нуди одличен избор на маркетинг и аналитички алатки за да ви помогне да процените колку добро вашата апликација работи. Креирањето на апликација треба да биде трет чекор во креирањето на вашиот бренд на Интернет. Вистинскиот развивач на апликации може да ја зголеми видливоста на вашата компанија на неколку канали, да го подобри нивото на услуги на клиентите и да отвори нов свет за вас и за вашиот бизнис.
Најдобар начин да се реши ова е да се оневозможат сите апликации за подигање кои навистина не ви се потребни. Можете да ја овозможите или оневозможите секоја апликација или услуга што, според вашето мислење, може да предизвика забавување. Оваа функција за блокирање на апликации, исто така, им овозможува на вашите пријатели или членови на семејството да пристапат до вашата приватна содржина или до некоја неупотреблива апликација. Можете исто така да ги оневозможите сите непотребни апликации, кои, според вашето мислење, го забавуваат уредот. Ова им овозможува на хакер или потенцијална закана за користење на вашите лични податоци.
यदि आपका विश्वास है कि एक सर्वशक्तिमान, सर्वव्यापक और सर्वज्ञानी ईश्वर है, जिसने विश्व की रचना की, तो कृपा करके मुझे यह बतायें कि उसने यह रचना क्यों की? कष्टों और संतापों से पूर्ण दुनिया – असंख्य दुखों के शाश्वत अनन्त गठबन्धनों से ग्रसित! एक भी व्यक्ति तो पूरी तरह संतृष्ट नही है. कृपया यह न कहें कि यही उसका नियम है. यदि वह किसी नियम से बँधा है तो वह सर्वशक्तिमान नहीं है. वह भी हमारी ही तरह नियमों का दास है. कृपा करके यह भी न कहें कि यह उसका मनोरंजन है.
हमारा GeoDNS नेटवर्क रणनीतिक रूप से उच्च वेब ट्रैफिक वाले भौगोलिक स्थानों के निकट रखा गया है।हम हमेशा अपने नेटवर्क की लगातार निगरानी और विस्तार करते रहते हैं क्योंकि निश्चित क्षेत्रों में हमेशा ट्रैफिक में वृद्धि होती जाती है।23 महाद्वीपों पर 6 Anycast DNS डेटा केंद्रों के साथ आपके उपयोगकर्ता अपने प्रश्नों का जवाब उनके स्थान के नज़दीक से जितना संभव हो सके हल कर पाएंगे।
Shin Hae-mi: Do you know Bushmen in the Kalahari Desert, Africa It is said that Bushmen have two types of hungry people. Hungry English is hunger, Little hungry and great hungry. Little hungry people are physically hungry, The great hungry is a person who is hungry for survival. Why do we live, What is the significance of living? People who are always looking for these answers. This kind of person is really hungry, They called the great hungry. 

मतभेदों की समझ से, इनबाउंड विज्ञापनदाता उत्पाद से संबंधित मुद्दों पर अधिकार में लाभ प्राप्त करना शुरू कर देता है। आम तौर पर यह प्रक्रिया के माध्यम से किया जाता है सामग्री विपणन। एक व्यक्ति क्या करता है जब वह पता लगाता है कि उसके पास "दर्द" है और इसे हल करने की आवश्यकता है? Google पर खोजें, दोस्तों और विशेषज्ञों के साथ बात करें, इन्फ्लूएंसर की राय खोजें। यह इन स्थानों में है कि कंपनी को संदर्भ होना चाहिए।

नया प्रश्न उठ खड़ा हुआ है । क्या मैं किसी अहंकार के कारण सर्व शक्तिमान, सर्वव्यापी तथा सर्वज्ञानी ईश्वर के अस्तित्व पर विश्वास नहीं करता हूँ ? मेरे कुछ दोस्त शायद ऐसा कहकर मैं उन पर बहुत अधिकार नहीं जमा रहा हूँ । मेरे साथ अपने थोड़े से सम्पर्क में इस निष्कर्ष पर पहुँचने के लिये उत्सुक हैं कि मैं ईश्वर के अस्तित्व को नकार कर कुछ ज़रूरत से ज़्यादा आगे जा रहा हूँ । और मेरे घमण्ड ने कुछ हद तक मुझे इस अविश्वास के लिये उकसाया है । मैं ऐसी कोई शेखी नहीं बघारता कि मैं मानवीय कमज़ोरियों से बहुत ऊपर हूँ । मैं मनुष्य हूँ । और इससे अधिक कुछ नहीं । कोई भी इससे अधिक होने का दावा नहीं कर सकता । यह कमज़ोरी मेरे अन्दर भी है । अहंकार भी मेरे स्वभाव का अंग है । घमण्ड तो स्वयं के प्रति अनुचित गर्व की अधिकता है । क्या यह अनुचित गर्व है । जो मुझे नास्तिकता की ओर ले गया ? अथवा इस विषय का खूब सावधानी से अध्ययन करने और उस पर खूब विचार करने के बाद मैंने ईश्वर पर अविश्वास किया ?
भौगोलिक लक्ष्यीकरण : आपके ग्राहक कहां हैं, और कितने हैं? उदाहरण के लिए, एक रिटेलर यह निर्धारित कर सकता है कि इसका भौगोलिक लक्ष्य बाजार प्राथमिक रूप से उन लोगों के हैं जो रिटेलर के व्यवसाय के स्थान की दो घंटे की ड्राइव में रहते हैं या छुट्टी करते हैं। एक अकाउंटेंट यह निर्धारित कर सकता है कि उसका भौगोलिक लक्ष्य बाजार शहर की सीमाओं के भीतर केंद्रित है। एक परामर्शदाता पांच राज्यों के क्षेत्र में व्यवसायों को लक्षित कर सकता है

फिर भी, नेशनल एसोसिएशन ऑफ रियल्टीर्स (एनएआर) मनी लॉन्डिंग समस्या से लड़ने के लिए एक "उचित" दृष्टिकोण के रूप में इस कदम का समर्थन करता है, जबकि यह देखते हुए कि "रियल एस्टेट एजेंट और दलाल धनराशि के बाद धन शोधन का पता लगाने की स्थिति में नहीं हैं अचल संपत्ति लेनदेन में शामिल विनियमित वित्तीय संस्थानों के माध्यम से किया जाता है।"एनएआर ने धन परिसमापन के लक्षणों की पहचान करने के लिए रियल एस्टेट पेशेवरों के लिए स्वैच्छिक दिशानिर्देश तैयार करने के लिए वित्त मंत्रालय के साथ काम किया है और अपने सदस्यों के साथ अपनी वेबसाइट, राष्ट्रीय बैठकों में कार्यशालाओं और विभिन्न प्रकाशनों में जानकारी साझा की है।


परमात्मा को आने दो और वह चीज को सही तरीके से कर दे. अंग्रेजों की हुकूमत यहाँ इसलिये नहीं है कि ईश्वर चाहता है बल्कि इसलिये कि उनके पास ताकत है और हममें उनका विरोध करने की हिम्मत नहीं. वे हमको अपने प्रभुत्व में ईश्वर की मदद से नहीं रखे हैं, बल्कि बन्दूकों, राइफलों, बम और गोलियों, पुलिस और सेना के सहारे. यह हमारी उदासीनता है कि वे समाज के विरुद्ध सबसे निन्दनीय अपराध – एक राष्ट्र का दूसरे राष्ट्र द्वारा अत्याचार पूर्ण शोषण – सफलतापूर्वक कर रहे हैं. कहाँ है ईश्वर? क्या वह मनुष्य जाति के इन कष्टों का मज़ा ले रहा है? एक नीरो, एक चंगेज, उसका नाश हो!
Visual Studio provides a first-class Python editor, including syntax coloring, auto-complete across all your code and libraries, code formatting, signature help, refactoring, linting, and type hints. Visual Studio also provides unique features like class view, Go to Definition, Find All References, and code snippets. Direct integration with the Interactive window helps you quickly develop Python code that's already saved in a file.
मिमल केवल पीपीसी विपणन रणनीति के लिए उपयोगी नहीं है. मुझे विपणन के कई उपाध्यक्ष हैं जो पीपीसी का उपयोग उन विचारों का परीक्षण करने के लिए करते हैं जो वे अन्य संदर्भों में (जैसा कि ऊपर वर्णित क्षेत्रों में) उपयोग करते हैं। कई लोग पीपीसी का उपयोग किसी कंपनी के अनन्य विक्रय प्रस्ताव, या खासियत (विशेष रूप से एक नई कंपनी के लिए या एक नई जगह में जाने के लिए आदि) का निर्धारण करने के लिए करते हैं।
कानूनी वातावरण (Legal environment) कानूनी वातावरण का निर्माण देश द्वारा समाज के आर्थिक एवं सामाजिक लक्ष्यों, विचारधाराओं तथा मूल्यों के आधार पर निर्धारित होता है। विकासोन्मुखी व कल्याणकारी राज्य में उपभोक्ताओं, निर्धनों, बेरोजगारों, महिलाओं, बूढ़ों तथा अन्य जरूरतमन्द लोगों के हितों की रक्षा के लिए कानूनी प्रावधान किये जाते हैं। इसके लिए सरकार विभिन्न अधिनियमों एवं नियमों के माध्यम से व्यवसाय का संचालन करती है। अत: व्यवसाय भी इन्हीं परिसीमाओं के मध्य संचालित होता है। इस सम्बन्ध में प्रसिद्ध अर्थशास्त्री आर्थरलेविस का कहना है कि ‘‘सरकार का व्यवहार आर्थिक क्रियाओं के प्रोत्साहन एवं हतोत्साहन द्वारा भी व्यवसाय की दिशा व दशा तय करने में महत्वपूर्ण रूप से प्रभावित करने वाला तत्व है।

(१) अल्पकालीन नियोजन : यह सामान्यतया एक वर्ष और इससे कम की अवधि के लिए तैयार किया जाता है। इसके अन्तर्गत अल्पकालीन क्रियाओं का निर्धारण इस प्रकार से किया जाता हे, ताकि दीर्घकालीन नियोजन के उद्देश्यों को आसानी से प्राप्त किया जा सके। इसमें क्रियाओं का विस्तृत विश्लेषण किया जाता है। यह विशिष्ट उद्देश्य तथा उत्पादन के ऐच्छिक स्तर को प्राप्त करने से प्रारम्भ होता है। अल्पकालीन नियोजन का सम्बन्ध, चूंकि अल्पकाल से होता है, इसलिए इसका पूर्वानुमान लगाया जाना आसान है, इनका सफलतापूर्वक क्रियान्वयन किया जा सकता है तथा आवश्यक परिवर्तन एवं संशोधन सम्भव है। अल्पकालीन नियोजन की कुछ सीमाएँ भी हैं। इसमें उपक्रम के विकास एवं स्थायित्व को पर्याप्त महत्व नहीं मिल पाता और कर्मचारियों को निर्णयन में हिस्सेदारी देना कठिन है। इसके अलावा उतावले निर्णयों का नुकसान भी इस प्रकार के नियोजन में होता है।
Mann credited Ben Straley, co-founder of Meteor Solutions – who has joined Rio SEO as vice president of social technologies – along with the Seattle-based team, for expediting a smooth transition and fast integration since the acquisition was finalized late last year.  Straley now reports to Chris Reid, senior vice president and operating head of Rio SEO.
अन्तर्राष्ट्रीय घटनाओं की दशा में (Impact of International events) वर्तमान व्यावसायिक क्षेत्र के वैश्विक होने के कारण विश्व की विभिन्न अर्थव्यवस्थाओं पर अन्तर्राष्ट्रीय घटनाओं व इसके प्रभाव व्यवसाय पर पड़ने लगते हैं। अन्तर्राष्ट्रीय स्तर पर होने वाले आर्थिक, सामाजिक, राजनैतिक परिवर्तनों से कोर्इ भी राष्ट्र व वहां का व्यवसाय प्रभावित हुए बिना नहीं रह सकता। साथ ही साथ अर्थव्यवस्थाओं में लिये जाने वाले निर्णय, अन्तर्राष्ट्रीय प्रभावों व संस्थागत एवं शासकीय दबावों से प्रभावित होते हैं, जिसका प्रभाव व्यवसाय पर पड़ता है। अत: व्यवसाय के स्थायित्व, अस्तित्व, लाभदेयता एवं प्रभावशाली कार्य प्रणाली के लिए अन्तर्राष्ट्रीय घटनाओं, प्रभावों व दबावों का अध्ययन व विश्लेषण किया जाना अत्यन्त आवश्यक होता है। यह सब कार्य व्यावसायिक वातावरण के माध्यम से सरलतापूर्वक सम्पन्न किया जा सकता है।
“We’re excited to bring the leading innovator in home phone customer satisfaction the leading enterprise SEO software platform to help manage their content marketing strategy,” said Pete Dudchenko, vice president, product management for Rio SEO.  “Not only will our SEO tools help Ooma discover new keywords and content opportunities, the platform will also automate the analysis around where Ooma should focus their efforts. Plus, they can stay on top of inadvertent changes to their web pages that may be impacting SEO performance one way or the other.”
संसाधनों की उपलब्धता (Avialability of resources) किसी भी संगठन का आन्तरिक तत्व उस संगठन को उपलब्ध मानवीय एवं आर्थिक संसाधनों की मात्रा, दर व प्राप्ति समय द्वारा प्रभावित होता है। यदि किसी संगठन में इन संसाधनों की उपलब्धता आसानी से एवं उचित मात्रा, उचित बाजार दर पर एवं उचित समय पर है, तो संस्था को लक्ष्य प्राप्त करना आसान हो जाता है। इसके विपरीत यदि संस्था में इन संसाधनों का अभाव रहता है, तो संस्थागत लक्ष्य प्राप्त करना मुश्किल हो जाता है। इस प्रकार संसाधनों की उपलब्धता व्यावसायिक वातावरण को प्रभावित करती है।
A इनबाउंड मार्केटिंग का अनुवाद यह आकर्षण विपणन या इनबाउंड विपणन है। यह नाम दिया गया है, ठीक है क्योंकि यह ए के तर्क को उलट देता है बिक्री टीम। शास्त्रीय विधि में, के रूप में जाना जाता है आउटबाउंड मार्केटिंगविक्रेता को अपने अवसर तलाशना चाहिए। इनबाउंड संभावित ग्राहकों की एक बड़ी संख्या को आकर्षित करने और संलग्न करने का प्रयास करता है, जिसे जाना जाता है ओर जाता है। संपर्क केवल व्यापारी के पास होते हैं जब वे बिक्री के लिए "परिपक्व" होते हैं।
बाजार हिस्सेदारी को देखने का एक अन्य तरीका डॉलर की मात्रा से है ग्रीन गार्डन अपने प्रतिद्वंद्वियों के राजस्व का अनुमान लगा सकता है और फिर उन आंकड़ों को ग्रीन गार्डन के राजस्व आंकड़े को जोड़ता है ताकि कुल लक्ष्य बाजार आवासीय परिदृश्य सेवा बिक्री का अनुमान लगाया जा सके। अगर लक्ष्य बाजार की बिक्री $ 4 मिलियन है, और अगर ग्रीन गार्डन की वार्षिक बिक्री $ 600,000 है, तो ग्रीन गार्डन का 15 प्रतिशत बाजार हिस्सा है
मेरे बाबा, जिनके प्रभाव में मैं बड़ा हुआ, एक रूढ़िवादी आर्य समाजी हैं. एक आर्य समाजी और कुछ भी हो, नास्तिक नहीं होता. अपनी प्राथमिक शिक्षा पूरी करने के बाद मैंने डी. ए. वी. स्कूल, लाहौर में प्रवेश लिया और पूरे एक साल उसके छात्रावास में रहा. वहाँ सुबह और शाम की प्रार्थना के अतिरिक्त मैं घण्टों गायत्री मंत्र जपा करता था. उन दिनों मैं पूरा भक्त था. बाद में मैंने अपने पिता के साथ रहना शुरू किया. जहाँ तक धार्मिक रूढ़िवादिता का प्रश्न है, वह एक उदारवादी व्यक्ति हैं. उन्हीं की शिक्षा से मुझे स्वतन्त्रता के ध्येय के लिये अपने जीवन को समर्पित करने की प्रेरणा मिली. किन्तु वे नास्तिक नहीं हैं. उनका ईश्वर में दृढ़ विश्वास है. वे मुझे प्रतिदिन पूजा-प्रार्थना के लिये प्रोत्साहित करते रहते थे. इस प्रकार से मेरा पालन-पोषण हुआ.

आज जिस प्रकार के आर्थिक, सामाजिक एवं राजनैतिक माहौल में हम हैं, उसमें नियोजन उपक्रम एक अभीष्ट जीवन-साथी बन चुका है। यदि समूहि के प्रयासों को प्रभावशाली बनाना है तो कार्यरत व्यक्तियों को यह जानना आवश्यक है कि उनसे क्या अपेक्षित है और इसे केवल नियोजन की मदद से ही जाना जा सकता है। इसीलिए तो कहा जाता है कि प्रभावशाली प्रबन्ध के लिए नियोजन उपक्रम की समस्त क्रियाओं में आवश्यक है। लक्ष्य निर्धारण तथा उस तक पहुँ चने तक का मार्ग निश्चित किये बिना संगठन, अभिप्रेरण, समन्वय तथा नियन्त्रण का कोई भी महत्व नहीं रह पायेगा। जब नियोजन के अभाव में क्रियाओं का पूर्वनिर्धारण नहीं होगा तो न तो कुछ कार्य संगठन को करने को ही होगा, न समन्वय को और न ही अभिप्रेरणा और नियन्त्रण को। इसीलिए ही विद्वानों ने नियोजन को प्रबन्ध का सर्वाधिक महत्वपूर्ण कार्य माना है। नियोजन की प्रक्रिया मानव सभ्यता के प्रारम्भ से ही मौजूद है, क्योंकि यह मानव का स्वभाव रहा है कि उसे आगे क्या करना है? इसकी वह पूर्व में कल्पना करता है। आज इसका सुधरा हुआ स्वरूप हमारे सामने है।
एक क्लासिक केस है जिसमें बड़े कार्यालय भवन के किरायेदारों ने तेजी से खराब लिफ्ट सेवा के बारे में शिकायत की है। लिफ्ट से संबंधित समस्याओं में विशेषज्ञता रखने वाली परामर्श फर्म को स्थिति से निपटने के लिए नियोजित किया गया था। इसने पहली बार स्थापित किया कि लिफ्ट्स के लिए औसत प्रतीक्षा समय बहुत लंबा था। इसके बाद लिफ्ट जोड़ने की संभावनाओं का मूल्यांकन किया गया, मौजूदा लिफ्ट्स को तेजी से बदल दिया गया, और लिफ्ट्स के उपयोग में सुधार के लिए कंप्यूटर नियंत्रण शुरू किया गया। विभिन्न कारणों से, इनमें से कोई भी संतोषजनक साबित हुआ। इंजीनियरों ने समस्या असफल होने की घोषणा की।
!function(n,t){function r(e,n){return Object.prototype.hasOwnProperty.call(e,n)}function i(e){return void 0===e}if(n){var o={},s=n.TraceKit,a=[].slice,u="?";o.noConflict=function(){return n.TraceKit=s,o},o.wrap=function(e){function n(){try{return e.apply(this,arguments)}catch(e){throw o.report(e),e}}return n},o.report=function(){function e(e){u(),h.push(e)}function t(e){for(var n=h.length-1;n>=0;--n)h[n]===e&&h.splice(n,1)}function i(e,n){var t=null;if(!n||o.collectWindowErrors){for(var i in h)if(r(h,i))try{h[i].apply(null,[e].concat(a.call(arguments,2)))}catch(e){t=e}if(t)throw t}}function s(e,n,t,r,s){var a=null;if(w)o.computeStackTrace.augmentStackTraceWithInitialElement(w,n,t,e),l();else if(s)a=o.computeStackTrace(s),i(a,!0);else{var u={url:n,line:t,column:r};u.func=o.computeStackTrace.guessFunctionName(u.url,u.line),u.context=o.computeStackTrace.gatherContext(u.url,u.line),a={mode:"onerror",message:e,stack:[u]},i(a,!0)}return!!f&&f.apply(this,arguments)}function u(){!0!==d&&(f=n.onerror,n.onerror=s,d=!0)}function l(){var e=w,n=p;p=null,w=null,m=null,i.apply(null,[e,!1].concat(n))}function c(e){if(w){if(m===e)return;l()}var t=o.computeStackTrace(e);throw w=t,m=e,p=a.call(arguments,1),n.setTimeout(function(){m===e&&l()},t.incomplete?2e3:0),e}var f,d,h=[],p=null,m=null,w=null;return c.subscribe=e,c.unsubscribe=t,c}(),o.computeStackTrace=function(){function e(e){if(!o.remoteFetching)return"";try{var t=function(){try{return new n.XMLHttpRequest}catch(e){return new n.ActiveXObject("Microsoft.XMLHTTP")}},r=t();return r.open("GET",e,!1),r.send(""),r.responseText}catch(e){return""}}function t(t){if("string"!=typeof t)return[];if(!r(j,t)){var i="",o="";try{o=n.document.domain}catch(e){}var s=/(.*)\:\/\/([^:\/]+)([:\d]*)\/{0,1}([\s\S]*)/.exec(t);s&&s[2]===o&&(i=e(t)),j[t]=i?i.split("\n"):[]}return j[t]}function s(e,n){var r,o=/function ([^(]*)\(([^)]*)\)/,s=/['"]?([0-9A-Za-z$_]+)['"]?\s*[:=]\s*(function|eval|new Function)/,a="",l=10,c=t(e);if(!c.length)return u;for(var f=0;f0?s:null}function l(e){return e.replace(/[\-\[\]{}()*+?.,\\\^$|#]/g,"\\$&")}function c(e){return l(e).replace("<","(?:<|<)").replace(">","(?:>|>)").replace("&","(?:&|&)").replace('"','(?:"|")').replace(/\s+/g,"\\s+")}function f(e,n){for(var r,i,o=0,s=n.length;or&&(i=s.exec(o[r]))?i.index:null}function h(e){if(!i(n&&n.document)){for(var t,r,o,s,a=[n.location.href],u=n.document.getElementsByTagName("script"),d=""+e,h=/^function(?:\s+([\w$]+))?\s*\(([\w\s,]*)\)\s*\{\s*(\S[\s\S]*\S)\s*\}\s*$/,p=/^function on([\w$]+)\s*\(event\)\s*\{\s*(\S[\s\S]*\S)\s*\}\s*$/,m=0;m]+)>|([^\)]+))\((.*)\))? in (.*):\s*$/i,o=n.split("\n"),u=[],l=0;l=0&&(v.line=g+x.substring(0,j).split("\n").length)}}}else if(o=d.exec(i[y])){var _=n.location.href.replace(/#.*$/,""),T=new RegExp(c(i[y+1])),E=f(T,[_]);v={url:_,func:"",args:[],line:E?E.line:o[1],column:null}}if(v){v.func||(v.func=s(v.url,v.line));var k=a(v.url,v.line),A=k?k[Math.floor(k.length/2)]:null;k&&A.replace(/^\s*/,"")===i[y+1].replace(/^\s*/,"")?v.context=k:v.context=[i[y+1]],h.push(v)}}return h.length?{mode:"multiline",name:e.name,message:i[0],stack:h}:null}function y(e,n,t,r){var i={url:n,line:t};if(i.url&&i.line){e.incomplete=!1,i.func||(i.func=s(i.url,i.line)),i.context||(i.context=a(i.url,i.line));var o=/ '([^']+)' /.exec(r);if(o&&(i.column=d(o[1],i.url,i.line)),e.stack.length>0&&e.stack[0].url===i.url){if(e.stack[0].line===i.line)return!1;if(!e.stack[0].line&&e.stack[0].func===i.func)return e.stack[0].line=i.line,e.stack[0].context=i.context,!1}return e.stack.unshift(i),e.partial=!0,!0}return e.incomplete=!0,!1}function v(e,n){for(var t,r,i,a=/function\s+([_$a-zA-Z\xA0-\uFFFF][_$a-zA-Z0-9\xA0-\uFFFF]*)?\s*\(/i,l=[],c={},f=!1,p=v.caller;p&&!f;p=p.caller)if(p!==g&&p!==o.report){if(r={url:null,func:u,args:[],line:null,column:null},p.name?r.func=p.name:(t=a.exec(p.toString()))&&(r.func=t[1]),"undefined"==typeof r.func)try{r.func=t.input.substring(0,t.input.indexOf("{"))}catch(e){}if(i=h(p)){r.url=i.url,r.line=i.line,r.func===u&&(r.func=s(r.url,r.line));var m=/ '([^']+)' /.exec(e.message||e.description);m&&(r.column=d(m[1],i.url,i.line))}c[""+p]?f=!0:c[""+p]=!0,l.push(r)}n&&l.splice(0,n);var w={mode:"callers",name:e.name,message:e.message,stack:l};return y(w,e.sourceURL||e.fileName,e.line||e.lineNumber,e.message||e.description),w}function g(e,n){var t=null;n=null==n?0:+n;try{if(t=m(e))return t}catch(e){if(x)throw e}try{if(t=p(e))return t}catch(e){if(x)throw e}try{if(t=w(e))return t}catch(e){if(x)throw e}try{if(t=v(e,n+1))return t}catch(e){if(x)throw e}return{mode:"failed"}}function b(e){e=1+(null==e?0:+e);try{throw new Error}catch(n){return g(n,e+1)}}var x=!1,j={};return g.augmentStackTraceWithInitialElement=y,g.guessFunctionName=s,g.gatherContext=a,g.ofCaller=b,g.getSource=t,g}(),o.extendToAsynchronousCallbacks=function(){var e=function(e){var t=n[e];n[e]=function(){var e=a.call(arguments),n=e[0];return"function"==typeof n&&(e[0]=o.wrap(n)),t.apply?t.apply(this,e):t(e[0],e[1])}};e("setTimeout"),e("setInterval")},o.remoteFetching||(o.remoteFetching=!0),o.collectWindowErrors||(o.collectWindowErrors=!0),(!o.linesOfContext||o.linesOfContext<1)&&(o.linesOfContext=11),void 0!==e&&e.exports&&n.module!==e?e.exports=o:"function"==typeof define&&define.amd?define("TraceKit",[],o):n.TraceKit=o}}("undefined"!=typeof window?window:global)},"./webpack-loaders/expose-loader/index.js?require!./shared/require-global.js":function(e,n,t){(function(n){e.exports=n.require=t("./shared/require-global.js")}).call(n,t("../../../lib/node_modules/webpack/buildin/global.js"))}});
मेरे बाबा, जिनके प्रभाव में मैं बड़ा हुआ, एक रूढ़िवादी आर्य समाजी हैं. एक आर्य समाजी और कुछ भी हो, नास्तिक नहीं होता. अपनी प्राथमिक शिक्षा पूरी करने के बाद मैंने डी. ए. वी. स्कूल, लाहौर में प्रवेश लिया और पूरे एक साल उसके छात्रावास में रहा. वहाँ सुबह और शाम की प्रार्थना के अतिरिक्त मैं घण्टों गायत्री मंत्र जपा करता था. उन दिनों मैं पूरा भक्त था. बाद में मैंने अपने पिता के साथ रहना शुरू किया. जहाँ तक धार्मिक रूढ़िवादिता का प्रश्न है, वह एक उदारवादी व्यक्ति हैं. उन्हीं की शिक्षा से मुझे स्वतन्त्रता के ध्येय के लिये अपने जीवन को समर्पित करने की प्रेरणा मिली. किन्तु वे नास्तिक नहीं हैं. उनका ईश्वर में दृढ़ विश्वास है. वे मुझे प्रतिदिन पूजा-प्रार्थना के लिये प्रोत्साहित करते रहते थे. इस प्रकार से मेरा पालन-पोषण हुआ.

पहले, साम्लाट ने हास्यास्पद प्रतिस्पर्धी देशों में वैनिला खोज को पूरी तरह से डंप करने के लिए विज्ञापनदाताओं के लिए वकालत की थी और केवल आरएलएसए अभियान करते थे, फिर "बचत" को सस्ता, अधिक लीवरेज रीमार्केटिंग कुकी-पूल विकास की रणनीतियों जैसे सामाजिक और प्रदर्शन विज्ञापन की ओर मुड़ें। यदि आप अपने प्रतिस्पर्धियों को ऐसा करने के लिए समझा सकते हैं, तो आप दोनों अच्छे होंगे


राजकोषीय एवं कराधान नीतियाँ (Flscal and taxation policy) - सरकार राजकोषीय एवं कराधान नीति के माध्यम से एक आरे व्यक्तिगत अर्थव्यवस्था, व्यय एवं बचत क्रियाओं को नियन्त्रित करके आवश्यक कोष (धरनराशि) सरकारी खजाने (कोष) में जमा करती है वहीं दूसरी ओर अपनी व्यय नीति के द्वारा राष्ट्रीय कल्याण में वृद्धि के लिए प्राप्त धनराशि का वितरण करती है। राजकोषीय नीति का सम्बन्ध कर नीति, व्यय नीति, ऋणनीति, बजट निर्माण आदि से होता है। सरकार द्वारा इन क्रियाओं का उद्देश्यपूर्ण उपयोग आर्थिक स्थायित्व (economic stability), दु्रतगामी एवं पूर्ण रोजगार आदि प्राप्ति के लिए किया जाता है। यह राजकोषीय एवं कराधान नीतियाँ व्यावसायिक वातावरण के महत्वपूर्ण निध्र्धारक घटक होते हैं।

इन दोनों ही अवस्थाओं में वह सच्चा नास्तिक नहीं बन सकता. पहली अवस्था में तो वह अपने प्रतिद्वन्द्वी के अस्तित्व को नकारता ही नहीं है. दूसरी अवस्था में भी वह एक ऐसी चेतना के अस्तित्व को मानता है, जो पर्दे के पीछे से प्रकृति की सभी गतिविधियों का संचालन करती है. मैं तो उस सर्वशक्तिमान परम आत्मा के अस्तित्व से ही इनकार करता हूँ. यह अहंकार नहीं है, जिसने मुझे नास्तिकता के सिद्धान्त को ग्रहण करने के लिये प्रेरित किया. मैं न तो एक प्रतिद्वन्द्वी हूँ, न ही एक अवतार और न ही स्वयं परमात्मा. इस अभियोग को अस्वीकार करने के लिये आइए तथ्यों पर गौर करें. मेरे इन दोस्तों के अनुसार, दिल्ली बम केस और लाहौर षड़यंत्र केस के दौरान मुझे जो अनावश्यक यश मिला, शायद उस कारण मैं वृथाभिमानी हो गया हूँ.


उन्होंने बताया कि भगत सिंह को जब फांसी के लिए ले जाया जा रहा था तब लाहौर सेंट्रल जेल के वार्डन सरदार चतर सिंह ने उनसे आखिरी वक़्त ईश्वर को याद करने को कहा. भगत सिंह ने मुस्कुराते हुए जवाब दिया था कि सारी जिंदगी दुखियों और गरीबों के कष्ट देखकर मैं ईश्वर को नकारता रहा, और अब मैं उन्हें याद करूंगा तो लोग मुझे बुजदिल समझेंगे और कहेंगे कि देखो ये आखिरी वक़्त मौत से डर गया. उनके इस कथन से इस बात का इशारा मिलता है वो नास्तिक नहीं थे इसलिए इतिहासकारों के जानिब से उन्हें नास्तिक बताया जाना गलत है.

 व्यवसाय की समस्त क्रियाएँ राष्ट्र के आर्थिक, सामाजिक, राजनैतिक, वैध् ाानिक, प्रौद्योगिकीय, नैतिक एवं सांस्कृतिक वातावरण या पर्यावरण के सन्दर्भ में निर्धारित होती है। इसलिए व्यावसायिक पर्यावरण के अर्थ को भली-भाँति जान लेना अति आवश्यक हो जाता है। सामान्यत: व्यावसायिक वातावरण से तात्पर्य उन समस्त कारकों (factors) से होता है, जो व्यवसाय के संचालन को प्रभावित करती है। व्यावसायिक पर्यावरण की परिभाषा विभिन्न विद्धानों द्वारा निम्न प्रकार दी गयी है-

इस समय तक मैं केवल एक रोमान्टिक आदर्शवादी क्रान्तिकारी था. अब तक हम दूसरों का अनुसरण करते थे. अब अपने कन्धों पर ज़िम्मेदारी उठाने का समय आया था. यह मेरे क्रान्तिकारी जीवन का एक निर्णायक बिन्दु था. ‘अध्ययन’ की पुकार मेरे मन के गलियारों में गूँज रही थी– विरोधियों द्वारा रखे गये तर्कों का सामना करने योग्य बनने के लिये अध्ययन करो. अपने मत के पक्ष में तर्क देने के लिये सक्षम होने के वास्ते पढ़ो. मैंने पढ़ना शुरू कर दिया. इससे मेरे पुराने विचार और विश्वास अद्भुत रूप से परिष्कृत हुए.


अन्तर्राष्ट्रीय घटनाओं की दशा में (Impact of International events) वर्तमान व्यावसायिक क्षेत्र के वैश्विक होने के कारण विश्व की विभिन्न अर्थव्यवस्थाओं पर अन्तर्राष्ट्रीय घटनाओं व इसके प्रभाव व्यवसाय पर पड़ने लगते हैं। अन्तर्राष्ट्रीय स्तर पर होने वाले आर्थिक, सामाजिक, राजनैतिक परिवर्तनों से कोर्इ भी राष्ट्र व वहां का व्यवसाय प्रभावित हुए बिना नहीं रह सकता। साथ ही साथ अर्थव्यवस्थाओं में लिये जाने वाले निर्णय, अन्तर्राष्ट्रीय प्रभावों व संस्थागत एवं शासकीय दबावों से प्रभावित होते हैं, जिसका प्रभाव व्यवसाय पर पड़ता है। अत: व्यवसाय के स्थायित्व, अस्तित्व, लाभदेयता एवं प्रभावशाली कार्य प्रणाली के लिए अन्तर्राष्ट्रीय घटनाओं, प्रभावों व दबावों का अध्ययन व विश्लेषण किया जाना अत्यन्त आवश्यक होता है। यह सब कार्य व्यावसायिक वातावरण के माध्यम से सरलतापूर्वक सम्पन्न किया जा सकता है।
व्यावसायिक पर्यावरण दो शब्दों-व्यवसाय एवं पर्यावरण के संयोग से बना है। व्यवसाय, विद्यमान पर्यावरण में रहकर अपनी क्रियाओं को संचालित करता है। व्यवसाय को पर्यावरण प्रभावित करता है और व्यवसाय पर्यावरण को प्रभावित करता है। अत: दोनों ही अन्तर्सम्बन्धित हैं। वास्तव में व्यावसायिक पर्यावरण उन सभी परिस्थितियों, घटनाओं एवं कारकों का योग है जो व्यवसाय पर अनुकूल या प्रतिकूल प्रभाव डालता है।
बैंकिंग प्रणाली में बंधक भेदभाव की रिपोर्ट ने दिसंबर 2016 की घोषणा के बाद हाल ही में सुर्खियां बनायीं हैं कि वेल्स फ़ार्गो ने नस्लीय पूर्वाग्रह के आरोपों से उत्पन्न कानूनी दावों का निपटान करने के लिए $ 35 मिलियन का भुगतान किया होगा। इस साल जनवरी में, यू.एस. डिपार्टमेंट ऑफ हाउसिंग एंड शहरी डेवलपमेंट (एचयूडी) ने बैंक ऑफ अमेरिका और उसके दो कर्मचारियों के खिलाफ आरोप लगाया था,
तकनीकी स्थिति (Technicalsituation) व्यावसायिक वातावरण में तकनीक के प्रयोग की सीमा तथा आवश्यकता भी व्यावसायिक वातावरण के निर्धारण में महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है। यदि देश या समाज तकनीकी रूप से सुदृढ़ है, तो वहां व्यावसायिक वातावरण पिछड़े तकनीकी क्षेत्र से भिन्न होगा तथा व्यवसाय गलाकाट प्रतियोगिता की स्थिति में निपटने में सक्षम होगा, जिससे व्यवसाय के विकास एवं विस्तार के मार्ग प्रशस्त होंगे।
वैधानिक घटक के अन्तर्गत देश में व्यवसाय एवं समाज के हित में चलाये जा रहे विभिन्न नियम अधिनियम, सरकारी गजट, आदि आते हैं, जबकि न्यायिक घटक के अन्तर्गत व्यवसाय एवं समाज के हितों की रक्षा के लिए विवादों का समाधान करने के उपरान्त विभिन्न न्यायालयों द्वारा दिये गये निर्णय शामिल होते हैं। वैधानिक एवं न्यायिक घटक के अन्तर्गत मुख्यत: व्यावसायिक, औद्योगिक व श्रम सन्नियम शामिल होते हैं व प्रशासन व्यवस्था, व्यावसायिक, औद्योगिक व श्रम अधिनियम या सन्नियम के अन्तर्गत सरकार द्वारा समय-समय पर पारित अधिनियम जैसे - भारतीय संविदा अधिनियम (Indian Contract Act), 1872, भारतीय कम्पनी अधिनियम (Indian Companies Act), 1956; वस्तु विक्रय अधिनियम (Sales of Goods Act), 1930, भारतीय साझेदारी अधिनियम (Indian Partnership Act),1932, उद्योग विकास एवं नियमन अधिनियम (Industry Development and Regulation Act), 1951, एकाधिकार एवं प्रतिबंधित व्यापार व्यवहार अधिनियम (MRTP Act 1969), प्रतिभूति प्रसंविदा नियमन अधिनियम (Securities Contract Regulation Act), 1956; भारतीय कारखाना अधिनियम (Indian Factories Act), 1948; औद्योगिक विवाद अधिनियम (Industrial Dispute Act), 1947; कर्मचारी क्षतिपूर्ति अधिनियम, (Workmans Compensation Act), 1923; मजदूरी भुगतान अधिनियम, आवश्यक वस्तु अधिनियम, व्यापार एवं वस्तु चिन्ह अधिनियम आदि प्रमुख हैं जो देश की व्यावसायिक गतिविधियों को सुचारू रूप से चलाने में सहायता करते हैं।
जैसा कि पिछले अंक में बताया गया है, पीपीसी आपको सुपर तेज विश्लेषणात्मक कौशल विकसित करने में मदद करता है। हम अक्सर कुछ डेटा बिंदुओं पर विचार कर रहे हैं जब यह आकलन करते हैं कि कीवर्ड काम कर रहे हैं या काम नहीं कर रहे हैं या नहीं। सीटीआर, क्वालिटी Semaltेट, इंप्रेशन शेयर, विज्ञापन स्थिति, लागत प्रति रूपांतरण, रूपांतरण दर और अधिक का विश्लेषण करना असामान्य नहीं है।
आज जिस प्रकार के आर्थिक, सामाजिक एवं राजनैतिक माहौल में हम हैं, उसमें नियोजन उपक्रम एक अभीष्ट जीवन-साथी बन चुका है। यदि समूहि के प्रयासों को प्रभावशाली बनाना है तो कार्यरत व्यक्तियों को यह जानना आवश्यक है कि उनसे क्या अपेक्षित है और इसे केवल नियोजन की मदद से ही जाना जा सकता है। इसीलिए तो कहा जाता है कि प्रभावशाली प्रबन्ध के लिए नियोजन उपक्रम की समस्त क्रियाओं में आवश्यक है। लक्ष्य निर्धारण तथा उस तक पहुँ चने तक का मार्ग निश्चित किये बिना संगठन, अभिप्रेरण, समन्वय तथा नियन्त्रण का कोई भी महत्व नहीं रह पायेगा। जब नियोजन के अभाव में क्रियाओं का पूर्वनिर्धारण नहीं होगा तो न तो कुछ कार्य संगठन को करने को ही होगा, न समन्वय को और न ही अभिप्रेरणा और नियन्त्रण को। इसीलिए ही विद्वानों ने नियोजन को प्रबन्ध का सर्वाधिक महत्वपूर्ण कार्य माना है। नियोजन की प्रक्रिया मानव सभ्यता के प्रारम्भ से ही मौजूद है, क्योंकि यह मानव का स्वभाव रहा है कि उसे आगे क्या करना है? इसकी वह पूर्व में कल्पना करता है। आज इसका सुधरा हुआ स्वरूप हमारे सामने है।
आप सोशल मीडिया पर नहीं हैं, तो आप एकांतप्रिय हैं. सामाजिक मीडिया ग्राहकों के एक बहुत आकर्षित करने के लिए प्रमुख भूमिका निभानी. हम अपने पेज पसंद बढ़ती द्वारा आप सोशल मीडिया पर अपने व्यापार को विकसित करने के लिए सहायता, प्रशंसकों. हम विशेष रूप से फेसबुक पर ध्यान केंद्रित, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूब. हम विभिन्न विपणन रणनीतियों अपने सामाजिक मीडिया चैनल के लिए पोस्ट करने के लिए डिजाइन बनाने के.